टीचर हो तो आशीष डंगवाल जैसा, विदाई के वक्त रो पड़ा गांव


टीचर हो तो आशीष डंगवाल जैसा, विदाई के वक्त रो पड़ा गांव

देश भर में आज टीचर्स डे मनाया जा रहा है. इस अवसर पर विभिन्न शिक्षण संस्‍थानों में शिक्षक के सम्‍मान में तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजित किऐ जा रहे हैं. दरअसल, यह कार्यक्रम भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के मौके पर हर वर्ष शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाता है.

 

इस मौके पर mobilenews24 आपको एक ऐसे टिचर से मिलवाने जा रहा है, जिनकी स्‍कूल से विदाई होने पर बच्‍चे ही नहीं पूरा गांव भावुक हो पड़ा था. क्या आपने कभी सोचा है कि क्‍या कोई शिक्षक ऐसा भी हो सकता है, जिसे कुछ लोग नहीं बल्‍कि पूरा का पूरा गांव पसंद करता हो और उसकी विदाई पर गांव भर के लोगों की आंखों में आंसू हों लेकिन ये सच है.

 

आपको बता दें कि इस शख्‍स का नाम है आशीष डंगवाल. आशीष उत्तरकाशी के भंकोली गांव के एक सरकारी असी गंगा घाटी स्थित राजकीय इंटर कॉलेज स्‍कूल में पढ़ाते थे. पढ़ाने का अंदाज और अपने मिलनसार स्‍वभाव की वजह से वह पूरे गांव में लोकप्रिय थे. तबादले के बाद जब वह जाने लगे तो उनकी विदाई पर पूरे गांव के लोगों की आंखों में आंसू छलक पड़े थे. इस अनोखी विदाई के वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है.

 

यह भी पढ़ें: अमेज़न प्राइम ने ड्रामा-थ्रिलर सीरीज - 'द फैमिलीमैन' का ट्रेलर किया रिलीज

 

teachers day

 

इस वीडियो में स्कूल के शिक्षक मंगल दीन पटेल भी अपने छात्रों के साथ रोते हुए अपनी भावनाएं नहीं छिपा पाए. बता दें कि फिलहाल उनका ट्रांसफर गारीखेत (टिहरी) में हो गया है. इस बारे में आशीष कहते हैं, “मैं प्यार और बिना शर्त स्नेह पाने के लिए भाग्यशाली हूं. मैंने उत्तरकाशी के सरकारी स्कूल में 3 वर्ष काम किया. मैंने उन शिक्षण विधियों को अपनाया जो छात्रों को पसंद हैं और मैं यह करना जारी रख रहा हूं. मेरे नए स्कूल में भी मुझे सभी से बहुत समर्थन मिलता है.'' इसके अलावा आशीष कहते हैं, ''मैं पहाड़ियों में पला-बढ़ा हूं और अब यहीं सेवा करना चाहता हूं.'' 

 

गौरतलब है कि ऐसी ही एक कहानी तमिलनाडु के वेल्लियाराम में एक सरकारी स्कूल में देखने को मिली जब एक 28 वर्षीय अंग्रेजी और तमिल शिक्षक जी भगवान के तबादले की खबर आई. इसके बाद जब जी भगवान ने बुधवार को स्कूल के परिसर से बाहर निकलने की कोशिश की तो वहां छात्रों ने उन्हें रोक लिया. उनकी आंखों में आंसू थे. ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है जब शिक्षको को अपने छात्रों से इस तरह के प्यार और प्रशंसा मिल पाता है.

 

यह भी पढ़ें: जानिए कैसे वापस पायें अपनी खोई हुई ताकत

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

-
-

रेसिपी

वायरल न्यूज़

×