अनशनकारियों ने पीएम को लिखा खून से खत, कहा इलाज नहीं दे सकते तो मौत दें


अनशनकारियों ने पीएम को लिखा खून से खत, कहा इलाज नहीं दे सकते तो मौत दें

 

महोबा: पृथक बुंदेलखंड राज्य की मांग को लेकर पिछले 531 दिन से अनशन पर बैठे बुंदेली समाज के संयोजक तारा पाटकर एवं उनके साथियों ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को चौथी बार खून से खत लिखा. इसके साथ ही कहा कि अगर आप लंबे आंदोलन के बाद भी हम लोगों को इलाज की सुविधाएं नहीं दे सकते तो अब इच्छा मृत्यु दे दीजिए।

 

आल्हा चौक में अनशन स्थल पर आज तारा पाटकर के अलावा बुंदेली समाज के महामंत्री डा. अजय सरसैया, सुरेश सोनी, सिद्धांत त्रिपाठी, पूर्व फौजी कृष्णा शंकर जोशी व मुहम्मद अजीम ने भी खून से खत लिखे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर महोबा की जनता ने बहुत बड़ी लड़ाई लड़ी। हम लोगों ने 259 दिन तक भूख हड़ताल की। हजारों माताओं बहनों ने प्रधानमंत्री को राखियां भेजी।

 

BREAKING NEWS: असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा में बिल फाड़ी,कहा -बिल हिटलर के कानून से भी बदतर

 

बुंदेली समाज ने पोस्टकार्ड अभियान चला कर लाखों खत भेजे। तारा पाटकर पांच साल से नंगे पैर चलकर हठयोग सत्याग्रह कर रहे हैं लेकिन हम लोग महोबा के अस्पताल तक को जिला स्तर का नहीं करवा पाये। अगर सरकार यहां डाक्टर नहीं दे सकती। अस्पताल को अपग्रेड नहीं कर सकती। मेडिकल कालेज नहीं दे सकती तो हम लोगों को मौत दे दे।

 

तारा पाटकर ने कहा कि महोबा जिला बनने के बाद से लेकर अब तक 25 साल में जितने सांसद, विधायक हुए, सभी को इसकी जिम्मेदारी लेना चाहिए और अपनी नाकामी के लिए सार्वजनिक रूप से जनता से माफी मांगनी चाहिए। इस मौके पर देवेन्द्र तिवारी, हरिओम निषाद, लालजी त्रिपाठी, कल्लू चौरसिया, अमरचंद समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

 

-महोबा से प्रवीण कुमार

 

घरेलु नुस्खे : खूबसूरती चाहिए तो भीगा बादाम खाएं

 

The agitators wrote, PM modi, with blood, saying if you cannot give, treatment, give death, Mahoba Devotees immersed, devotion of Shri Ram Katha, top news up, top news mahoba, Hindi News, हिंदी न्यूज़, Latest News in Hindi, Latest Hindi News, Hindi News Headlines, हिन्दी ख़बर,  Breaking News in Hindi, Breaking Hindi News

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार


बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार

हिंदी पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके NDTV के रवीश कुमार को बेस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है. ये अवार्ड 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस अवार्ड को ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार के नाम से जाना जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

आपको बता दें कि, सम्मान के लिए पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया की, ‘अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’ 

आपको बता दें कि, रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह सम्मान मिल चुका है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज


28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज

हाल ही में जम्मू कश्मीर में 10,000 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती के एक हफ्ते के भीतर बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने कश्मीर 28,000 और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर दिया है. इसके साथ ही सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर रहने को कहा है.

जिसके चलते स्थानीय नागरिकों में पहचल शुरु हो गई है और लोगों ने तेजी से राशन पानी जुटाना शुरु कर दिया है. इस बीच राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने सरकार के इस अप्रत्याशित कदम पर ट्वीट कर कहा कि “ऐसी कौन सी वर्तमान परिस्थिति है जिसके चलते केंद्र सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर ऱखा हुआ है, निश्चित तौर पर यह मामला 35ए अथवा परिसीमन से जुड़ा नहीं हैं. अगर सच में इस तरह का कोई अलर्ट जारी किया गया है तो यह बिल्कुल अलग चीज है.”

खास बात यह है कि इन सभी सुरक्षाबलों की राज्य के अति संवेदनशील माने जाने वाले इलाकों में भारी मात्रा में तैनाती की गई हैं. इसके अलावा राज्य के सभी जगहों पर अर्धसैनिक बलों ने कब्जा कर लिया है और प्रदेश पुलिस सिर्फ प्रतीकात्मक बन कर रह गई है.

घाटी में इतनी अधिक मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर हमारे सूत्रों का कहना है कि सरकार 370 और 35ए को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सीमापार से आतंकवादी कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में हैं जिसके मद्देनजर किया है.

लेकिन राजनीति के जानकारों का मानना है कि सरकार यह सब ध्यान भटकाने के लिए कह रही है जबकि असल में सरकार कुछ अलग और बड़ा करने की तैयारी कर रही है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×