भीषण जल संकट : सूखने की कगार पर नदी नालो में झिरिया से बुझ रही प्यास


भीषण जल संकट : सूखने की कगार पर नदी नालो में झिरिया से बुझ रही प्यास

भीषण गर्मी में पीने के पानी के लिये  संघर्ष ए बालाघाट के ग्रामीण अंचलों में आम बात है वही दुरस्त ग्रामीण अंचलों में तो सूखने की कगार पर नदी.नालों में झिरिया खोदकर लोग अपनी प्यास बुझा रहे है हर वर्ष गर्मियों के मौसम मे जल संकट का द्रोहकालएअब लोगो के लिए मानो अभिशाप बन गया है।वंही कुछ इलाकों में जल स्तर भी सैकड़ो फिट नीचे जा रहा है जिससे लोगो की चिंता भविष्य के लिहाज से कई गुना बढ़ रही है।

 

पेयजल के लिए ग्रामीण इलाकों में जद्दोजहद भीषण होती जा रही है।जिले में सुख रहे नदी नालों से प्यास बुझाने वाले ग्रामीण इलाको के कई वीडियो है जो जिम्मेदारों को शर्मिंदा करने के लिए काफी है आप भी देखिए कैसे बेबस ग्रामीण और खासकर मासूम बच्चे नदी नालों में गड्ढा खोदकर पानी पीने को मजबूर है।एक तरफ बालाघाट जिले के लामता क्षेत्र के घांघरिया गांव में मासूम बच्ची नदी में गड्ढा खोदकर उसमे से थोड़ा-थोड़ा पीने के पानी का इंतजाम कर रही है।

 

वही दूसरा वीडियो बालाघाट जिले के दुरस्त नक्सल प्रभावित इलाके में पाथरी ग्राम पंचायत के आमाटोला और मढ़ी टोला के बीच बहने वाले नाले की है जंहा आदिवासी बैगा जनजाति के लोग नाले में झिरिया बनाकर अपनी प्यास बुझाने को मजबूर है देखिये कैसे नन्ही बच्ची अपनी और अपने दुधमुहे भाई को पलसे के पत्ते का दोना बनाकर पानी पिला रही है।हर वर्ष गर्मी के मौसम में जल संकट के द्रोहकाल से गुजरने वाले लोग पानी की बूंद बूंद के लिए संघर्ष करते है।

 

वॉयसओवरण्ण्ण् बालाघाट जिले के दूरस्थ अंचलो की बात करे तो जंगलो में निवास करने वाली अतिसंरक्षित बैगा जनजाति के संरक्षण के नाम पर जिम्मेदार अधिकारी और जनप्रतिनिधियों की पोल खोलने के लिएए पलसे के पत्ते से बने दोने में नाले का पानी पीने की तस्वीर काफी है। नक्सल प्रभावित दुरुस्त वन क्षेत्रों में ऐसी तस्वीर कई जगह देखने को मिल सकती है पेयजल के नाम पर कुछ हैंडपंप खोदे गए है पर ये नाकाफी साबित हो रहे है या सैकड़ो फिट नीचे जाते जल स्तर के आगे हेण्डपम्पएकुँए भी दम तोड़ रहे है साथ ही कई गांव में नल जल योजना भी ठप्प पड़ी हुई है जिसके चलते आलम ये है कि जल संकट के दौर में लोगो मे पीने के पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है ऐसे में ग्रामीण किसानों की खेतो में गन्नाएसब्जियों समेत कई खड़ी फसल भी सिचाई के अभाव में तबाह हो रही है।

 

बालाघाट जिले में पीने के पानी के लिए जद्दोजहद और तरसते लोगो की भयावह तस्वीर हर वर्ष भीषण गर्मी में देखने को मिलती है जिस पर जिम्मेदार अफसोस तो जताते है लेकिन जलसंकट से उबारने कोई जमीनी कार्यवाही नही होती है हालांकि बालाघाट एसण्पीण् पेयजल समस्या के निराकरण के लिए जिले के अधिकारियों के साथ तालमेल बिठाकर कार्य करने का भरोसा जता रहे है।

 

वॉयसओवरण्ण्ण्पानी के बिन सब सुन वाली कहावत जलसंकट से ग्रसित इलाको के बाशिन्दों पर सटीक बैठ रही है ऐसे में अतिसंरक्षित आदिवासी बैगा समाज के स्वास्थ और संरक्षण को लेकर कई सवाल खड़े होते है हर साल जल संकट के चलते जिले में भयावह हालात उजागर होते है बावजूद इसके पेयजल की समुचित व्यवस्था लचर ही दिखाई देती है।ऐसे में जलसंकट अब लोगो की बदनसीबी ही बन गई

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

इस मंत्री ने गलती से ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, हुए ट्रोल


इस मंत्री ने गलती से ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, हुए ट्रोल

आज सुबह से सोशल मीडिया पर एक खबर को काफी तेजी से वायरल किया जा रहा है. दरअसल, कर्नाटक में BS येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली BJP सरकार के मंत्रियों ने बीते मंगलवार को पद और गोपनीयता की शपथ ली. इस दौरान जब BJP नेता और विधायक मधु स्वामी पद और गोपनीयता की शपथ ले रहे थे, तभी उन्होंने गलती से बतौर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. 

 

 

बता दें कि, मधु स्वामी जब शपथ ले रहे थे तो उन्हें मंत्री बोलना था, लेकिन जुबान फिसलने के चलते वह मुख्यमंत्री बोल पड़े. अब इस खबर को सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल किया जा रहा है. खास बात ये है कि इस दौरान CM येदियुरप्पा भी मौके पर मौजूद थे और मधु स्वामी की इस गलती पर मुस्कुरा दिए. इतना ही नहीं येदियुरप्पा ने मधु स्वामी को बाद में गले भी लगाया.

 

गौरतलब है कि, बीते मंगलवार को हुए शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल वजुभाई वाला ने 17 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलायी. जिन विधायकों को मंत्री पद से नवाजा गया है, उनमें बी. श्रीरमुलु, सीटी रवि, पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केएस ईश्वरप्पा और पूर्व सीएम जगदीश शेट्टार का नाम शामिल है. बता दें कि, येदियुरप्पा के 26 जुलाई को CM बनने के बाद उनके मंत्रिमंडल का यह पहला विस्तार है. उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में अपनी सरकार का बहुमत साबित किया था. 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

22 वर्ष पहले दफ़न हुए व्यक्ति का नहीं गला शरीर, मिला ज्यों का त्यों


22 वर्ष पहले दफ़न हुए व्यक्ति का नहीं गला शरीर, मिला ज्यों का त्यों

उतर-प्रदेश के बांदा जिले से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, कई लोग इसे देखकर खुदा का करिश्मा मान रहें हैं तो वहीं कई लोग नेक इंसाल का दर्जा दे रहें हैं. बताया जा रहा है कि, यहां 22 वर्ष पहले कब्र मे दफनाए गए एक शख्स का जनाजा ज्यों का त्यों पड़ा मिला है.

 

ये मामला तब सामने आया जब मूसलाधार बारिश के चलते कब्रिस्तान में मिट्टी कटने से एक कब्र धंस गई और उसमें  22 वर्ष पहले दफन एक शख्स का कफन में लिपटा जनाजा़ दिखने लगा. यहां देखते ही देखते मौके पर काफी लोगों पहुंच गए. जब कफन में लिपटी लाश को निकाला गया तो वहां मौजूद सैकड़ों लोग देखकर दंग रह गए. क्योंकि 22 सालों बाद भी लाश ज्यों कि त्यों निकली.

 

फ़िल्म 'द जोया फैक्टर' और अभिनेत्री सोनम कपूर से जुड़ी रोचक बात

 

दरअसल, ये मामला उतर-प्रदेश के जिले बांदा के बबेरू कस्बे के अतर्रा रोड स्थित घसिला तालाब के कब्रिस्तान की है. यहां मूसलाधार बारिश से कई कब्रों की मिट्टी बह गई और एक कब्र में दफन जनाजा़ बाहर दिखने लगा. इसके बाद लोगों ने कब्रिस्तान कमेटी को इसकी जानकारी दी. कब्रिस्तान कमेटी के सदस्‍यों द्वारा जब कब्र की धंसी हुई मिट्टी को हटाकर देखा गया, तो उसमें दफनाया गया जनाजा ज्यों का त्यों पड़ा मिला.

 

गौरतलब है कि, इस कब्र में 22 वर्ष पहले 55 वर्षीय पेशे से नाई नसीर अहमद नाम के शख्स को दफनाया गया था. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, नसीर अहमद पुत्र अलाउद्दीन निवासी कोर्रही, थाना बिसंडा बबेरू में नाई की दुकान थी. उन्‍हें लगभग 22 वर्ष पहले दफन किया गया था. जबकी दूसरी तरफ मृतक नसीर के एक रिश्तेदार बताते हैं कि उनका कोई बेटा नहीं था. 

 

22 वर्ष पहले उनका निधन हुआ था, जिसके बाद उनलोगों ने ही उनके शव को दफनाया था. लेकिन, आज उनका जनाजा मिटटी धंसने की वजह से बाहर निकल आया. न शव ख़राब हुई थी और न ही कफ़न पर कोई दाग लगा था. हालंकी, बाद में स्थानीय मौलानाओं की मौजूदगी में शव को कल देर रात उसे दूसरी कब्र में दोबारा से दफन किया गया.

 

पुराने से पुराने पिंपल्स और झाइयां के दाग को जड़ से मिटाने का नुश्खा

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×