आईपीएच के सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए सोलन के निवासी डां. रविन्द्र नाथ


आईपीएच के सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए सोलन के निवासी डां. रविन्द्र नाथ

सोलन-

ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज तथा आईपीएच के सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए सोलन के निवासी डाॅ. रविन्द्र नाथ बत्ता को मुख्यमंत्री का सलाहकार एवं प्रधान निजी सचिव नियुक्त किए जाने से सोलन शहर के लोगों में प्रसन्नता की लहर छा गई है। मुख्यमंत्री कार्यालय में तैनाती पाने वाले डाॅ. बत्ता सोलन के पहले अधिकारी हैं, उनका परिवार कई दशकों से सोलन में रह रहा है।

 

सेवानिवृत्ति के पश्चात् पहली जून को उन्होंने अपना पदभार संभाल लिया है। राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सोलन के छात्र रह चुके डाॅ. बत्ता की नियुक्ति से स्थानीय लोगों में खुशी का माहौल है। शहर की अनेक सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं ने मुख्यमंत्री कार्यालय में डाॅ. बत्ता की तैनाती के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार जताया है। उनकी नियुक्ति से सोलन के लोगों में उम्मीद जगी और उन्हें लगता है कि यहां के विकास कार्यों में तेजी आएगी।

 

नगर परिषद सोलन के पूर्व अध्यक्ष कुल राकेश पंत, मां शूलिनी प्रसादम सेवा समिति के प्रधान प्रो. आरके पठानिया, अन्नपूर्णा सेवा समिति के उप प्रधान डाॅ. बीएन शर्मा, भाजपा के वरिष्ठतम नेता अमरनाथ बंसल, श्री ठाकुरद्वारा गऊ सेवा सदन डांगरी के प्रधान कुल भूषण गुप्ता व महासचिव सुरेन्द्र मारवाह, व्यापार मंडल सोलन के प्रधान मुकेश गुप्ता व महासचिव मनोज गुप्ता,

 

सोलन जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष मुनीष शारदा व संयोजक सतीश बंसल, मां शूलिनी सेवा दल सोलन के सदस्य एलसी गुप्ता, नव युवक संगठन के अध्यक्ष जगमोहन मल्होत्रा, भाजपा के पुराने कार्यकर्ता विश्वकिर्ति सूद,पार्षद पुनीत शर्मा,पूर्व पार्षद राजीव ठाकुर, आशीष शर्मा, जतिन साहनी, चन्द्र कांता सूद, किशन ग्रोवर व हरिमोहन शर्मा सहित अनेक  लोगों ने डाॅ. बत्ता की नियुक्ति पर प्रसन्नता जाहिर की है और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का धन्यवाद और कहा कि डाॅ. बत्ता की नियुक्ति से सोलन का मान सम्मान बढ़ा है।

 

- महेंद्र वर्मा

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

इस मंत्री ने गलती से ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, हुए ट्रोल


इस मंत्री ने गलती से ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, हुए ट्रोल

आज सुबह से सोशल मीडिया पर एक खबर को काफी तेजी से वायरल किया जा रहा है. दरअसल, कर्नाटक में BS येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली BJP सरकार के मंत्रियों ने बीते मंगलवार को पद और गोपनीयता की शपथ ली. इस दौरान जब BJP नेता और विधायक मधु स्वामी पद और गोपनीयता की शपथ ले रहे थे, तभी उन्होंने गलती से बतौर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली. 

 

 

बता दें कि, मधु स्वामी जब शपथ ले रहे थे तो उन्हें मंत्री बोलना था, लेकिन जुबान फिसलने के चलते वह मुख्यमंत्री बोल पड़े. अब इस खबर को सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल किया जा रहा है. खास बात ये है कि इस दौरान CM येदियुरप्पा भी मौके पर मौजूद थे और मधु स्वामी की इस गलती पर मुस्कुरा दिए. इतना ही नहीं येदियुरप्पा ने मधु स्वामी को बाद में गले भी लगाया.

 

गौरतलब है कि, बीते मंगलवार को हुए शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल वजुभाई वाला ने 17 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलायी. जिन विधायकों को मंत्री पद से नवाजा गया है, उनमें बी. श्रीरमुलु, सीटी रवि, पूर्व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केएस ईश्वरप्पा और पूर्व सीएम जगदीश शेट्टार का नाम शामिल है. बता दें कि, येदियुरप्पा के 26 जुलाई को CM बनने के बाद उनके मंत्रिमंडल का यह पहला विस्तार है. उन्होंने 29 जुलाई को विधानसभा में अपनी सरकार का बहुमत साबित किया था. 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

22 वर्ष पहले दफ़न हुए व्यक्ति का नहीं गला शरीर, मिला ज्यों का त्यों


22 वर्ष पहले दफ़न हुए व्यक्ति का नहीं गला शरीर, मिला ज्यों का त्यों

उतर-प्रदेश के बांदा जिले से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, कई लोग इसे देखकर खुदा का करिश्मा मान रहें हैं तो वहीं कई लोग नेक इंसाल का दर्जा दे रहें हैं. बताया जा रहा है कि, यहां 22 वर्ष पहले कब्र मे दफनाए गए एक शख्स का जनाजा ज्यों का त्यों पड़ा मिला है.

 

ये मामला तब सामने आया जब मूसलाधार बारिश के चलते कब्रिस्तान में मिट्टी कटने से एक कब्र धंस गई और उसमें  22 वर्ष पहले दफन एक शख्स का कफन में लिपटा जनाजा़ दिखने लगा. यहां देखते ही देखते मौके पर काफी लोगों पहुंच गए. जब कफन में लिपटी लाश को निकाला गया तो वहां मौजूद सैकड़ों लोग देखकर दंग रह गए. क्योंकि 22 सालों बाद भी लाश ज्यों कि त्यों निकली.

 

फ़िल्म 'द जोया फैक्टर' और अभिनेत्री सोनम कपूर से जुड़ी रोचक बात

 

दरअसल, ये मामला उतर-प्रदेश के जिले बांदा के बबेरू कस्बे के अतर्रा रोड स्थित घसिला तालाब के कब्रिस्तान की है. यहां मूसलाधार बारिश से कई कब्रों की मिट्टी बह गई और एक कब्र में दफन जनाजा़ बाहर दिखने लगा. इसके बाद लोगों ने कब्रिस्तान कमेटी को इसकी जानकारी दी. कब्रिस्तान कमेटी के सदस्‍यों द्वारा जब कब्र की धंसी हुई मिट्टी को हटाकर देखा गया, तो उसमें दफनाया गया जनाजा ज्यों का त्यों पड़ा मिला.

 

गौरतलब है कि, इस कब्र में 22 वर्ष पहले 55 वर्षीय पेशे से नाई नसीर अहमद नाम के शख्स को दफनाया गया था. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, नसीर अहमद पुत्र अलाउद्दीन निवासी कोर्रही, थाना बिसंडा बबेरू में नाई की दुकान थी. उन्‍हें लगभग 22 वर्ष पहले दफन किया गया था. जबकी दूसरी तरफ मृतक नसीर के एक रिश्तेदार बताते हैं कि उनका कोई बेटा नहीं था. 

 

22 वर्ष पहले उनका निधन हुआ था, जिसके बाद उनलोगों ने ही उनके शव को दफनाया था. लेकिन, आज उनका जनाजा मिटटी धंसने की वजह से बाहर निकल आया. न शव ख़राब हुई थी और न ही कफ़न पर कोई दाग लगा था. हालंकी, बाद में स्थानीय मौलानाओं की मौजूदगी में शव को कल देर रात उसे दूसरी कब्र में दोबारा से दफन किया गया.

 

पुराने से पुराने पिंपल्स और झाइयां के दाग को जड़ से मिटाने का नुश्खा

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×