आज है प्रदोष व्रत, जानिए व्रत की कथा एवं इतिहास


आज है प्रदोष व्रत, जानिए व्रत की कथा एवं इतिहास

वेदों, पुराणों एवं शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत मनाया जाता है। तदनुसार, भाद्रपद की शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी 11 सितंबर 2019 को प्रदोष व्रत मनाया जाएगा।

 

कलयुग में प्रदोष व्रत का अतुल्य महत्व है, भगवान शिव जी के भक्त श्री सूत जी का कहना है की जो भक्त प्रदोष व्रत के दिन उपवास रख कर शिव जी की पूजा व् आराधना करते है, उनकी सारी मनोकामना पूर्ण होती है. सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते है एवं परिवार में मंगल ही मंगल होता है।

 

प्रदोष व्रत प्रत्येक महीने के दोनों पक्ष की त्रयोदशी को पड़ता है। भक्तगण सप्ताह के सातों दिन व्रत रख सकते है। ऐसी मान्यता है की प्रदोष व्रत को करने से सप्ताह के सातों दिन भिन्न-भिन्न प्रकार की मनोकामनाएँ पूर्ण होती है।

 

रविवार को प्रदोष व्रत करने से शरीर निरोग रहता है, सोमवार को प्रदोष व्रत करने से इच्छित फल मिलता है, मंगलवार को प्रदोष व्रत करने से रोगों से मुक्ति मिलती है, बुधवार को प्रदोष व्रत करने से सभी प्रकार की मनोकामना सिद्ध होती है।

 

पूरी कथा पढ़ें: प्रदोष व्रत की कथा एवं इतिहास

और पढ़ें »

खास आपके लिए

-
-

रेसिपी

वायरल न्यूज़

×