बच्चों के लिए कुर्बानी देने वाली नर्स लिनी पुथुस्सेरी को मिला फ्लोरेंस नाइटेंगल अवॉर्ड


बच्चों के लिए कुर्बानी देने वाली नर्स लिनी पुथुस्सेरी को मिला फ्लोरेंस नाइटेंगल अवॉर्ड

दोस्तों आप लोगों को याद होगा वर्ष 2018 में केरल में फैले घातक निपाह वायरस से काफी बच्चें इसका शिकार हुऐ थे. जिसके कारण शहर के अस्पतालों में बच्चों के इलाज के लिए काफी दिक्कत हुई थी. खबर यह भी था कि इस दौरान पीड़ित मरीजों का इलाज करते करते एक नर्स लिनी पुथुस्सेरी ने अपनी जिंदगी कुर्बान कर दी. जिसे आज नर्स लिनी पुथुस्सेरी को मरणोपरांत नेशनल फ्लोरेंस नाइटेंगल अवॉर्ड 2019 से सम्मानित किया गया है.

 

ईएमएस मेमोरियल कोऑपरेटिव अस्पताल में निपाह वायरस से ग्रसित मरीजों के इलाज के दौरान 30 वर्षीय नर्स लिनी पुथुस्सेरी भी निपाह वायरस का शिकार बन गई थीं. तब उनका अंतीम दाह संस्कार भी आनन-फानन में कर दिया गया था ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके, और इसी कारण वह अपने परिवार को देख भी नहीं पाई थीं. परिवार की सहमति से मृत्यु के तुरंत बाद उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया था. 

 

Hindi News : 'New York Times' के लेख में मानसिक स्वास्थ्य पर दीपिका पादुकोण का यह अंश अवश्य पढ़ें

 

 

आपको बता दें कि भारत सरकार ने वर्ष 1973 में नर्सों द्वारा की जाने वाली मानव सेवा और सरानीय कार्य को ध्यान में रखते हुए नेशनल फ्लोरेंस नाइटिंगल अवॉर्ड की शुरुआत की थी. जहां लिनी पुथुस्सेरी के पति संजीव पुथुस्सेरी को आज राष्ट्रपति राम नाथ कोविंग से यह पुरस्कार प्राप्त किया. 

 

बता दें कि लिनी के अलावा 35 अन्य नर्सों को इस साल इस पुरस्कार से नवाजा गया है. राष्ट्रपति कोविंद ने इस सराहनीय कार्य के लिए सभी अवॉर्ड विजेताओं को बधाई दी. गौरतलब है कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइज़ेशन के अनुसार, इस वायरस का इलाज करने के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है.

 

संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य संस्था का कहना है कि इस वायरस से पीड़ित लोगों का मुख्य उपचार 'इन्टेंसिव सपोर्टिव केयर' ही है. इस वायरस के केस में मृत्य दर 70 प्रतिशत है. इसके लक्षणों में सांस लेने में तकलीफ, बुखार, मस्तिष्क में जलन, सिरदर्द, चक्कर आना, गफलत तथा सन्निपात शामिल हैं. निपाह वायरस, या एनआईवी संक्रमण आमतौर पर चमगादड़ों से फैलता है.

 

घरेलू नुस्खे : चर्मरोग के सभी बिमारियों का रामबाण इलाज

 

sister lini puthussery award, latest news, breaking news, kerala news, today's news from india, nipah virus kerala, Florence Nightingale Award 2019 India, EMS Memorial Coperative Hospital

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार


बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार

हिंदी पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके NDTV के रवीश कुमार को बेस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है. ये अवार्ड 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस अवार्ड को ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार के नाम से जाना जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

आपको बता दें कि, सम्मान के लिए पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया की, ‘अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’ 

आपको बता दें कि, रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह सम्मान मिल चुका है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज


28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज

हाल ही में जम्मू कश्मीर में 10,000 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती के एक हफ्ते के भीतर बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने कश्मीर 28,000 और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर दिया है. इसके साथ ही सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर रहने को कहा है.

जिसके चलते स्थानीय नागरिकों में पहचल शुरु हो गई है और लोगों ने तेजी से राशन पानी जुटाना शुरु कर दिया है. इस बीच राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने सरकार के इस अप्रत्याशित कदम पर ट्वीट कर कहा कि “ऐसी कौन सी वर्तमान परिस्थिति है जिसके चलते केंद्र सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर ऱखा हुआ है, निश्चित तौर पर यह मामला 35ए अथवा परिसीमन से जुड़ा नहीं हैं. अगर सच में इस तरह का कोई अलर्ट जारी किया गया है तो यह बिल्कुल अलग चीज है.”

खास बात यह है कि इन सभी सुरक्षाबलों की राज्य के अति संवेदनशील माने जाने वाले इलाकों में भारी मात्रा में तैनाती की गई हैं. इसके अलावा राज्य के सभी जगहों पर अर्धसैनिक बलों ने कब्जा कर लिया है और प्रदेश पुलिस सिर्फ प्रतीकात्मक बन कर रह गई है.

घाटी में इतनी अधिक मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर हमारे सूत्रों का कहना है कि सरकार 370 और 35ए को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सीमापार से आतंकवादी कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में हैं जिसके मद्देनजर किया है.

लेकिन राजनीति के जानकारों का मानना है कि सरकार यह सब ध्यान भटकाने के लिए कह रही है जबकि असल में सरकार कुछ अलग और बड़ा करने की तैयारी कर रही है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×