चुनाव बाद शाहीन बाग बन सकता है जलियांवाला बाग: ओवैसी


चुनाव बाद शाहीन बाग बन सकता है जलियांवाला बाग: ओवैसी

 

राजधानी दिल्ली के विधानसभा चुनाव का आज अंतिम दिन है. शाम पांच बजे के बाद अब कोई भी राजनीतिक दल चुनाव प्रचार या रैली नहीं कर सकता है. बता दें कि राजधानी में पिछले एक हप्तों से राजनीतिक गलियारों हलचल काफी तेज है और नेताओं के प्रति एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यरोप भी जारी है.

 

इस बीच AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बीते बुधवार को आशंका जताई है कि मतदान के बाद दिल्ली के शाहीन बाग को भाजपा जलियांवाला बाग बना देगी.

 

इसे भी पढ़ें: 23 बच्‍चों की जान बचाने वाले सिरफिरे की बेटी को IG मोहित अग्रवाल ने लिया गोद

 

दरअसल, पिछले बुधवार को संसद की कार्यवाही में भाग लेने के बाद बाहर निकले असदुद्दीन ओवैसी ने मीडिया के पूछे गए सवाल पर कहा कि दिल्ली में 8 फरवरी को मतदान है. इसके बाद भाजपा शाहीन बाग में गोलियां चलवा देगी. उन्होने कहा वह शाहीन बाग को जलियावालां बाग में बदल देंगे. भाजपा के एक मंत्री ने ही गोली मारने के नारे लगवाए हैं. इसलिए सरकार को इस मामले पर जवाब देना चाहिए.

 

आगे ओवैसी ने कहा, 'सरकार को स्पष्ट जवाब देना चाहिए कि 2024 तक NRC लागू नहीं किया जाएगा. वे NPR के लिए 3900 करोड़ रुपये क्यों खर्च कर रहे हैं? मुझे ऐसा इसलिए सोच रहा हूं, क्योंकि मैं इतिहास का छात्र रहा हूं. हिटलर ने अपने शासनकाल में दो बार जनगणना कराई. इसके बाद उसने यहूदियों को एक गैस चैंबर में धकेल दिया. मैं नहीं चाहता कि हमारे देश में ऐसा कुछ हो.'

 

इसे भी पढ़ें: वायरल इंफेक्शन को इन घरेलू नुस्खा से करें दूर

 

गौरतलब है कि दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पिछले 50 दिनों से लोग धरने पर बैठे हैं. विपक्ष ने इन्हें मुस्लिमों के खिलाफ बताकर सरकार पर निशाना साधा है. वहीं सरकार ने कहा कि इसे लेकर अफवाह फैलाया जा रहा है.

 

Jallianwala Bagh,AIMIM cheif,Shaheen Bagh,AIMIM cheif asaduddin owaisi,asaduddin owaisi,asaduddin owaisi comments,shaheen bagh news,taza news, top news today, mobile news 24, politicals news

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार


बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार

हिंदी पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके NDTV के रवीश कुमार को बेस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है. ये अवार्ड 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस अवार्ड को ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार के नाम से जाना जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

आपको बता दें कि, सम्मान के लिए पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया की, ‘अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’ 

आपको बता दें कि, रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह सम्मान मिल चुका है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज


28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज

हाल ही में जम्मू कश्मीर में 10,000 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती के एक हफ्ते के भीतर बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने कश्मीर 28,000 और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर दिया है. इसके साथ ही सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर रहने को कहा है.

जिसके चलते स्थानीय नागरिकों में पहचल शुरु हो गई है और लोगों ने तेजी से राशन पानी जुटाना शुरु कर दिया है. इस बीच राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने सरकार के इस अप्रत्याशित कदम पर ट्वीट कर कहा कि “ऐसी कौन सी वर्तमान परिस्थिति है जिसके चलते केंद्र सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर ऱखा हुआ है, निश्चित तौर पर यह मामला 35ए अथवा परिसीमन से जुड़ा नहीं हैं. अगर सच में इस तरह का कोई अलर्ट जारी किया गया है तो यह बिल्कुल अलग चीज है.”

खास बात यह है कि इन सभी सुरक्षाबलों की राज्य के अति संवेदनशील माने जाने वाले इलाकों में भारी मात्रा में तैनाती की गई हैं. इसके अलावा राज्य के सभी जगहों पर अर्धसैनिक बलों ने कब्जा कर लिया है और प्रदेश पुलिस सिर्फ प्रतीकात्मक बन कर रह गई है.

घाटी में इतनी अधिक मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर हमारे सूत्रों का कहना है कि सरकार 370 और 35ए को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सीमापार से आतंकवादी कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में हैं जिसके मद्देनजर किया है.

लेकिन राजनीति के जानकारों का मानना है कि सरकार यह सब ध्यान भटकाने के लिए कह रही है जबकि असल में सरकार कुछ अलग और बड़ा करने की तैयारी कर रही है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×