23 बच्‍चों की जान बचाने वाले सिरफिरे की बेटी को IG मोहित अग्रवाल ने लिया गोद


23 बच्‍चों की जान बचाने वाले सिरफिरे की बेटी को IG मोहित अग्रवाल ने लिया गोद

 

UP: फर्रुखाबाद के मोहम्मदाबाद करथिया गांव में बच्चों को बंधक बनाने वाले सुभाष बाथम की बेटी की जिम्मेदारी संभालने का मामला आज सुर्खियों में है. कानपुर जोन के आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा कि अगर मारे गए बदमाश की बच्ची को उसके रिश्तेदार रखने से इनकार कर देते हैं तो पुलिस उसकी परवरिश करेगी.

 

बता दें कि फर्रुखाबाद के करथिया गांव में सिलेंडर बम का तार काट 23 बच्चों की जान बचाने वाली बहादुर अंजलि (14) को अगले वर्ष राष्ट्रपति के हाथों बाल शक्ति पुरस्कार मिलेगा. वहीं दूसरी तरफ अंजलि समेत अन्य सभी 23 बच्चों को UP के CM योगी आदित्यनाथ भी सम्मानित करेंगे.

 

इसे भी पढ़ें: आज दिनभर की बड़ी खबरें | News Headlines | 5th February 2020

 

मीडिया रिपोर्ट की माने तो, करथिया गांव में बदमाश सुभाष बाथम व उसकी पत्नी ने अपनी बेटी की बर्थडे पार्टी के बहाने गांव के 23 बच्चों को घर पर बुलाया था. यहां तहखाने में दंपति ने मिलकर बच्चों को बंधक बना लिया था. तहखाने में 15 किलो बारूद से भरा सिलिंडर बम रखा था. यहीं पर सभी बच्चे बंधक बने थे. तभी 14 वर्षीय अंजलि ने सिलिंडर बम के तार को दांतों से काट दिया था. इससे बड़ी घटना टल गई थी. आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि अंजलि का नाम राष्ट्रपति पुरस्कार के लिए भेजा जाएगा. इसके पहले सभी बच्चों को मुख्यमंत्री के हाथों भी सम्मान मिलेगा.

 

आगे मोहित अग्रवाल ने कहा कि वो गौरी को किसी अच्छे हॉस्टल वाले स्कूल में पढ़ाएंगे. इसके अलावा वह उसे आईएएस या फिर आईपीएस अफसर बनाना चाहते हैं. फिलहाल कांस्टेबल रंजनी बच्ची की देखभाल करेंगी. हालांकि कई जगह से बच्ची को गोद लेने के प्रस्ताव आ रहे हैं और इस पूरे मामले पर न्यायिक प्रक्रिया का पालन किया जाएगा.

 

इसे भी पढ़े: चुटकियों में मिटाएं प्लास्टिक बर्तन के दाग धब्बे

 

IG Mohit Agarwal, adopts 23-year-old Sirfire's daughter,top news up,top news farukhabad, today latest news, mobile news 24, braking news, up cm yogi aditaynath

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार


बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार

हिंदी पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके NDTV के रवीश कुमार को बेस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है. ये अवार्ड 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस अवार्ड को ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार के नाम से जाना जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

आपको बता दें कि, सम्मान के लिए पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया की, ‘अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’ 

आपको बता दें कि, रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह सम्मान मिल चुका है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज


28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज

हाल ही में जम्मू कश्मीर में 10,000 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती के एक हफ्ते के भीतर बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने कश्मीर 28,000 और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर दिया है. इसके साथ ही सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर रहने को कहा है.

जिसके चलते स्थानीय नागरिकों में पहचल शुरु हो गई है और लोगों ने तेजी से राशन पानी जुटाना शुरु कर दिया है. इस बीच राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने सरकार के इस अप्रत्याशित कदम पर ट्वीट कर कहा कि “ऐसी कौन सी वर्तमान परिस्थिति है जिसके चलते केंद्र सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर ऱखा हुआ है, निश्चित तौर पर यह मामला 35ए अथवा परिसीमन से जुड़ा नहीं हैं. अगर सच में इस तरह का कोई अलर्ट जारी किया गया है तो यह बिल्कुल अलग चीज है.”

खास बात यह है कि इन सभी सुरक्षाबलों की राज्य के अति संवेदनशील माने जाने वाले इलाकों में भारी मात्रा में तैनाती की गई हैं. इसके अलावा राज्य के सभी जगहों पर अर्धसैनिक बलों ने कब्जा कर लिया है और प्रदेश पुलिस सिर्फ प्रतीकात्मक बन कर रह गई है.

घाटी में इतनी अधिक मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर हमारे सूत्रों का कहना है कि सरकार 370 और 35ए को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सीमापार से आतंकवादी कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में हैं जिसके मद्देनजर किया है.

लेकिन राजनीति के जानकारों का मानना है कि सरकार यह सब ध्यान भटकाने के लिए कह रही है जबकि असल में सरकार कुछ अलग और बड़ा करने की तैयारी कर रही है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×