अगर दोषी मेरे पार्टी का है तो उसे डबल सजा मिलनी चाहिए- केजरीवाल 


अगर दोषी मेरे पार्टी का है तो उसे डबल सजा मिलनी चाहिए- केजरीवाल 

दिल्ली के चांदबाग इलाके में हुए हिंसा के विडियो में आम आदमी पार्टी  के पार्षद ताहिर हुसैन के दिखने के बाद से केजरीवाल सरकार पर चौतरफा गाज गिर रहे हैं। हालाँकि, सुबह में तो पार्टी ताहिर का बचाव करती दिख रही थी लेकिन शाम होते-होते सीएम अरविंद केजरीवाल ने साफ कह दिया कि अगर हिंसा में उनकी पार्टी का कोई भी नजर आया है तो उसपर डबल कार्रवाई होनी चाहिए। 

 


गौरतलब है कि ताहिर के घर की छत से जांच के दौरान पेट्रोल बम, पत्थर और गुलेल सहित अन्य हिंसक पदार्थ बरामद हुए हैं। जबकि, ताहिर ने खुद को बेकसूर बताते हुए  अपनी सफाई देते हुए कहा है कि कुछ लोग जबरन उसके छत पर चढ़ गए थे और उन्होंने पुलिस को मदद के लिए भी बुलाया था।

 


सीएम केजरीवाल ने आज दिल्ली हिंसा पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीड़ितों के लिए मुआवजे की घोषणा की। इस दौरान पत्रकारों द्वारा ताहिर के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने  कहा, 'अगर कोई भी व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो उसे कड़ी सजा दी जानी चाहिए। अगर आम आदमी पार्टी का कोई दोषी पाया जाता है तो उसे दोगुनी सजा दी जाए। राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए।'

 


आपको बता दे कि बुधवार रात से सोशल मीडिया पर एक विडियो जमकर वायरल हो रहा है। जिसमें कथित तौर पर आप  के स्थानीय पार्षद ताहिर हुसैन अपनी छत पर दंगाइयों के साथ हाथ में डंडा लिए दिखे। छत से लोग पेट्रोल बम और पत्थर फेंक रहे थे। यह विडियो सामने के घर से कुछ लोगों ने बनाया था। विडियो में बैकग्राउंड से आवाजें आ रही थीं, जिसमें कुछ लोग यह कहते सुने जा रहे थे कि 'देखों ताहिर कैसे लड़कों को बुलाकर पत्थर जमा करवा रहा है, ताकि रात को ऊपर से फेंका जा सके।'

 

 

विडियो में पीछे से मारपीट की आवाजें आ रही हैं और धुआं निकलता भी दिख रहा है। उधर, ताहिर पर आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या में शामिल होने के आरोप भी लगाए गए हैं। इस विडियो को बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने शेयर कर ताहिर को दोषी ठहराते हुए उचित कार्यवाई की मांग की। वहीं, पूर्वी दिल्ली से बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि अगर विडियो में दिख रही चीजें सच हैं तो ताहिर को कोई माफ नहीं करेगा।

 


वहीं, ताहिर हुसैन ने विडिओ को झूठ ठहराते हुए कहा कि, ' मैं बिल्कुल निर्दोष हूं। घर की छत पर जो पेट्रोल बरामद हुआ है उसके बारे में मुझे जानकारी नहीं है। तलाशी के वक्त वहां कुछ नहीं था। जब हिंसा हो रही थी तब मैंने 6 बार 100 नंबर पर फोन किया, बहुत देर तक फोन नहीं उठा। मैंने संजय सिंह से भी मदद मांगी थी।'

 

ताहिर हुसैन ने आगे कहा कि दंगा भड़काने वाले अंकित शर्मा की हत्या के जिम्मेदार हैं, मुझे फंसाया जा रहा है। ये कपिल मिश्रा की साजिश है।' ताहिर ने दावा किया कि पुलिस की मौजूदगी में 24 फरवरी को वह घर से निकला। ताहिर ने कहा कि मैं हर तरह की जांच के लिए तैयार हूं।

 

 

arvind kejriwal,tahir hussain,tahir hussain aap,kejriwal on tahir hussain,arvind kejriwal tahir hussain,arvind kejriwal on tahir hussain,tahir husain,kejriwal,ruhit sardana tahir hussain,godi media on tahir hussain,sudhir chaudhri on tahir hussain,tahir hussain delhi,tahir hussain arvind kejriwal,taher hussain,arvind kejriwal latest,kejriwal vs ruhit shardana,arvind kejriwal delhi police

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार


बेबाक पत्रकार रवीश कुमार को मिला ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार

हिंदी पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके NDTV के रवीश कुमार को बेस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया है. ये अवार्ड 2019 के ‘रैमॉन मैगसेसे’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस अवार्ड को ‘रैमॉन मैगसेसे’ को एशिया का नोबेल पुरस्कार के नाम से जाना जाता है. यह पुरस्कार फिलीपीन्स के भूतपूर्व राष्ट्रपति रैमॉन मैगसेसे की याद में दिया जाता है.

आपको बता दें कि, सम्मान के लिए पुरस्कार संस्था ने ट्वीट कर बताया कि रवीश कुमार को यह सम्मान “बेआवाजों की आवाज बनने के लिए दिया गया है.” रवीश कुमार का कार्यक्रम ‘प्राइम टाइम’ ‘आम लोगों की वास्तविक, अनकही समस्याओं को उठाता है.” साथ ही प्रशस्ति पत्र में कहा गया की, ‘अगर आप लोगों की अवाज बन गए हैं, तो आप पत्रकार हैं.’ 

आपको बता दें कि, रवीश कुमार ऐसे छठे पत्रकार हैं जिनको यह पुरस्कार मिला है. इससे पहले अमिताभ चौधरी (1961), बीजी वर्गीज (1975), अरुण शौरी (1982), आरके लक्ष्मण (1984), पी. साईंनाथ (2007) को यह सम्मान मिल चुका है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज


28,000 और जवानों को कश्मीर में किया गया तैनात, हाई अलर्ट पर फोर्सेज

हाल ही में जम्मू कश्मीर में 10,000 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती के एक हफ्ते के भीतर बड़ा कदम उठाते हुए मोदी सरकार ने कश्मीर 28,000 और अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती कर दिया है. इसके साथ ही सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर रहने को कहा है.

जिसके चलते स्थानीय नागरिकों में पहचल शुरु हो गई है और लोगों ने तेजी से राशन पानी जुटाना शुरु कर दिया है. इस बीच राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने सरकार के इस अप्रत्याशित कदम पर ट्वीट कर कहा कि “ऐसी कौन सी वर्तमान परिस्थिति है जिसके चलते केंद्र सरकार ने सेना और वायुसेना को ऑपरेशनल अलर्ट पर ऱखा हुआ है, निश्चित तौर पर यह मामला 35ए अथवा परिसीमन से जुड़ा नहीं हैं. अगर सच में इस तरह का कोई अलर्ट जारी किया गया है तो यह बिल्कुल अलग चीज है.”

खास बात यह है कि इन सभी सुरक्षाबलों की राज्य के अति संवेदनशील माने जाने वाले इलाकों में भारी मात्रा में तैनाती की गई हैं. इसके अलावा राज्य के सभी जगहों पर अर्धसैनिक बलों ने कब्जा कर लिया है और प्रदेश पुलिस सिर्फ प्रतीकात्मक बन कर रह गई है.

घाटी में इतनी अधिक मात्रा में सुरक्षाबलों की तैनाती को लेकर हमारे सूत्रों का कहना है कि सरकार 370 और 35ए को लेकर कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सीमापार से आतंकवादी कश्मीर में बड़ा हमला करने की फिराक में हैं जिसके मद्देनजर किया है.

लेकिन राजनीति के जानकारों का मानना है कि सरकार यह सब ध्यान भटकाने के लिए कह रही है जबकि असल में सरकार कुछ अलग और बड़ा करने की तैयारी कर रही है.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×