सरकारी स्कूल के टीचर ने बच्चों को कराया हवाई जहाज का सैर


सरकारी स्कूल के टीचर ने बच्चों को कराया हवाई जहाज का सैर

 

आज के समय में सरकारी स्कूल के बच्चों के लिए हवाई जहाज का सफर करना एक सपने जैसा है. खासकर गांव-नगर में रहने वाले कई बच्चे जो ट्रेन में भी नहीं बैठ पाते हैं उनके लिए हवाई जहाज में बैठना बहुत बड़ी बात है. 

 

मगर इस बिच खबर है कि, MP के देवास में आगरोद संकुल के ग्राम बिजेपुर स्कूल के हेडमास्टर किशोर कनासे ने अपने खर्चे पर 18 से ज्यादा बच्चों को हवाई जहाज की सैर करवाई. ऐसा पहली बार ही हुआ होगा जब किसी शिक्षक ने अपने खर्च पर बच्चों को हवाई यात्रा करवाई हो, जिनकी चर्चा आज सुर्खियों का विषय बना हुआ है.

 

बता दें कि किशोर कनासे ने अपने निजी प्रयासों से हवाई जहाज की यात्रा के अलावा बच्चों को और कई जगहों पर भी ले गए. किशोर बच्चों को दिल्ली में ऐतिहासिक लाल किला, संसद भवन, राष्ट्रपति भवन और कुतुब मीनार और अक्षरधाम मंदिर व कनॉट प्लेस जैसे दर्शनीय स्थानों पर भी ले गए. सफर के दौरान स्कूली बच्चों के अलावा स्कूल के ही दो और टीचर आशा तिलोदिया और नितीन गुप्ता भी मौजूद थे.

 

गौरतलब है कि किशोर समय-समय पर अपने स्कूल के बच्चों के लिए अपने पैसों से किताब, कापियां, स्कूल बैग और स्वेटर की व्यवस्था भी करते हैं. इसके साथ ही बच्चों के शारीरिक विकास के लिए किशोर वर्ष में एक बार खेल प्रतियोगिता का आयोजन भी करवाते हैं, अगर इस तरह की सभी सरकारी स्कूल के टीचर की सोच हो जाए तो बच्चों का भविष्य उज्जवल जरुर बनेगा.

 

किशोर कनासे,kishor kanase,Government school,sarkari school,students, किशोर कनासे,बिजेपुर स्कूल के हेडमास्टर,हवाई सफर

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

अब PHD करना हुआ असान, UGC करने जा रही ये बलदाव


अब PHD करना हुआ असान, UGC करने जा रही ये बलदाव

देश में शिक्षा को सुधारने के लिए सरकार एक नये प्लान पर विचार कर रही है. इससे खासकर PHD करने वाले स्टूडेंट्स को अधिक लाभ मिलेगा और समय की बचत होगी. दरअसल, देशभर की तमाम यूनिवर्सिटीज के यूजी प्रोग्राम्स की अवधि 3 वर्ष से बढ़ाकर 4 वर्ष करने की तैयारी की जा रही है. इसके लिए यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन इस मामले पर विचार कर रहा है. अगर ऐसा होता है तो छात्र पाठ्यक्रम के बाद सीधे PHD कर सकेंगे. साथ ही छात्र का पोस्ट ग्रेजुएट होना भी जरूरी नहीं होगा. 

 

बता दें कि विश्वविद्यालयों में वर्तमान में स्नातक पाठ्यक्रम 3 वर्ष का और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम 2 वर्ष का होता है. इसके बाद ही किसी छात्र को PHD में प्रवेश मिल सकता है. दरअसल UGC देश की शिक्षा नीति में बड़े स्तर पर फेरबदल करने जा रहा है. इसके लिए UGC ने एक विशेषज्ञ समिति गठित की है. 

 

इसी कमेटी ने शिक्षा नीति में बदलाव के लिए UGC को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. इसमें ऐसी ही कई सिफारिशें की गई हैं. इसके अलावा इसमें बताया गया है कि विश्वविद्यालयों को 3 वर्षीय परंपरागत स्नातक पाठ्यक्रम चलाने की छूट भी मिलेगी.

 

इसे भी पढ़ें: घर बैठे बदलें अपने आधार कार्ड का पता और फोन नंबर

 

अगर कोई छात्र 4 वर्ष का स्नातक पाठ्यक्रम करने के बाद PHD के बजाए स्नातकोत्तर करना चाहता है तो उसे ऐसा करने की छूट मिलेगी. वर्तमान में तकनीकी शिक्षा के बैचलर ऑफ टेक्नॉलॉजी (बीटेक) या बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (बीई)  4 वर्ष के स्नातक पाठ्यक्रम हैं. उनके बाद छात्र सीधे PHD में प्रवेश ले सकते हैं. 

 

आपको बता दें कि प्रो. DP सिंह ने बताया कि शिक्षा नीति में बदलाव के पहले गठित कमेटी ने रिपोर्ट में स्नातक पाठ्यक्रम की अवधि 3 वर्ष से बढ़ाकर 4 वर्ष किए जाने की सिफारिश की है. यह नीति देश को नई दिशा देने वाली होगी. इस वजह से इसके हर बिंदु को अच्छी तरह से परख कर ही लागू किया जाएगा. नई नीति अगले वर्ष से लागू की जा सकती है.

 

इसे भी पढ़ें: मंद बुद्धि बच्चों का मेमोरी पॉवर बढ़ने एवं बैक पैन, जॉइंट पैन, के चमत्कारी उपाय।

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

आदिवासी बेटियों के लिए खोले गए कौशल नर्सिंग कॉलेज: रघुवर दास


आदिवासी बेटियों के लिए खोले गए कौशल नर्सिंग कॉलेज: रघुवर दास

आज की बेटियां कल की भविष्य है. इन्हे शिक्षा देने की जरुरत है मगर हमारे देश में आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो अपने बेटियों को शिक्षा नहीं दे पाते है. इसका मुल कारण है गरिबी. मगर हमारी केंद्र सरकार और राज्य सरकार इसे सुधारने के लिए मुहीम चला रही है. इस कड़ी में झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बेटियों को एक बड़ा तोहफा देते हुए गुमला में नर्सिंग कॉलेज का उद्घाटन किया. 

 

बताया जा रहा है कि कॉलेज में इसी सत्र से पढ़ाई भी शुरु हो जाएगी. एक बैच में 120 छात्राओं को दाखिला दिया जाएगा. दो वर्ष की नर्सिंग डिग्री हासिल करने के बाद छात्राओं को प्लेसमेंट भी दिया जाएगा. बता दें कि कौशल नर्सिंग कॉलेज के उद्घाटन के मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सूबे के महिला शक्ति की तारीफ करते हुए कहा कि उनकी सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए कृत संकल्पित है और इसको लेकर कई तरह की योजनाएं चला रही है.

 

इसे भी पढ़ें: लता मंगेशकर ने रानू मंडल को कहा, 'नकल करना आर्ट नहीं है'

 

उसी कड़ी में महिलाओं को स्वालम्बी बनाने की दिशा में यह नर्सिंग खोला गया है. यहां से हर वर्ष 120 छात्राएं पढ़ कर निकलेंगी और देश के नामी गिरामी अस्पतालों में उनका प्लेसमेंट कराया जायेगा. मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि सूबे में इस तरह के 9 और नर्सिंग कॉलेज खोले जाएंगे.

 

गौरतलब है कि पहले इस इलाके में कॉलेज नहीं होने और गरीबी के कारण यहां की लड़कियां इंटर के बाद पढ़ाई छोड़ देती थीं लेकिन अब वे नर्सिंग की ट्रेनिंग ले कर जरुरतमंदों की सेवा कर सकेंगी. इसके अलाव उन्होने कहा कि जनजाति क्षेत्र के विकास पर सरकार का विशेष फोकस है. सालों से आदिवासी समाज को विकास के नाम पर सिर्फ धोखा मिला है, लेकिन हमारी सरकार आदिवासी समाज के सर्वांगीण विकास के लिए कृतसंकल्पित है.

 

इसे भी पढ़ें: नींद लाने के ज़बरदस्त नुस्खे

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×