पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की हटाई गई SPG सुरक्षा


पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की हटाई गई SPG सुरक्षा

देश के पूर्व PM मनमोहन सिंह की SPG सुरक्षा अब हटा दी गई है और अब उन्हें सिर्फ जेड+ सुरक्षा ही दी जाएगी.  दरअसल, गृह मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि सुरक्षा को लेकर फैसला पूरी तरह से प्रफेशनल आधार पर किया गया है. मंत्रालय का कहना है कि निर्धारित समय के बाद सुरक्षा व्यवस्था का रिव्यू किया जाता है.

 

यह सामान्य प्रक्रिया है और इसके तहत ही सुरक्षा घटाने या बढ़ाने का निर्णय लिया जाता है. आपको बता दे कि, फिलहाल SPG सुरक्षा अब देश में सिर्फ 4 लोगों के ही पास है. पहला PM नरेंद्र मोदी के साथ यह सुरक्षा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी को मिल रही है. आम तौर पर खतरे की आशंका या सुरक्षा स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री के परिवार को भी SPG सुरक्षा देने का प्रावधान है.

 

इसे भी पढ़ें: टेस्ट क्रिकेट में जसप्रीत बुमराह ने रचा इतिहास

 

बताया जा रहा है कि, इससे पहले भी पूर्व प्रधानमंत्रियों की SPG सुरक्षा हटाई गई है. इसमें एचडी देवगौड़ा और वी पी सिंह की भी SPG सुरक्षा पद से हटने के बाद हटा ली गई थी. पूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी अपने जीवन के आखिरी वर्षों में बीमारी के कारण सार्वजनिक जीवन से दूर थे, लेकिन 2018 में उनकी मृत्यु तक उन्हें SPG सुरक्षा मिलती रही थी. 

 

2014 में मनमोहन सिंह के पद से हटने के बाद ही उनकी बेटी की SPG सुरक्षा हटा दी गई थी. मनमोहन सिंह के करीबी सूत्रों ने बताया कि वह खुद व्यक्तिगत रूप से सुरक्षा को लेकर चिंतित नहीं है, वह सरकार के फैसले के साथ जाने के लिए तैयार हैं. 

 

गौरतलब है कि, इंदिरा गांधी की उनके सुरक्षा गार्डों द्वारा हत्या करने के बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए साल 1985 में SPG की स्थापना की गई थी. साल 1991 में पूर्व PM राजीव गांधी की हत्या के बाद SPG एक्ट में संशोधन किया गया और इसमें पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार को अगले 10 साल तक SPG सुरक्षा देने का प्रावधान किया गया.

 

इसे भी पढ़ें: आँखों से चश्मा हटाने व नींद की बीमारी का रामबाण इलाज

और पढ़ें »

खास आपके लिए

-
-

रेसिपी

वायरल न्यूज़

×