पुल टेस्टिंग से टूटेगी कोरोना की चेन


पुल टेस्टिंग से टूटेगी कोरोना की चेन

रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर अलग-अलग सैंपल लेकर जांच करायी जाएगी

अधिक लोगों की जांच के लिए शुरू की गई है नयी व्यवस्था

बिना लक्षण वाले संदिग्ध लोगों की भी जांच करायी जाएगी

भागलपुर, 1 जून

कोरोना के संक्रमण का दायरा बढ़ता ही जा रहा है। पॉजिटिव मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग व प्रशासनिक अधिकारी चौकन्ने हो गए हैं। अभी तक तो संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे थे, लेकिन अब एक साथ पांच-पांच मरीजों की जांच होगी। जी हां, जिला प्रशासन ने अब पूल टेस्टिंग कराने का फैसला किया है। कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए प्रशासन ने अब इस तरीके को अपनाने का फैसला किया है।

  पूल टेस्टिंग में अगर जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आई सभी का सैंपल लेकर अलग-अलग जांच करायी जाएगी। जिले में इस तरह की जांच की नयी व्यवस्था शुरू हो गयी है। रेड जोन को छोड़कर अन्य राज्यों और शहरों से भी प्रवासी मजदूर आ रहे हैं। प्रखंड स्तर पर जांच के बाद रेड जोन वालों को क्वारंटाइन सेंटर और अन्य को होम क्वारंटाइन के लिए भेजा जा रहा है। काफी लोगों में कोरोना का लक्षण नहीं दिख रहा है, लेकिन कोरोना प्रभावित क्षेत्र से आने के चलते उन्हें संदिग्ध माना जा रहा है। ऐसे लोगों के लिए पूल टेस्टिंग की व्यवस्था की गयी है।  डॉ विजेंद्र कुमार विद्यार्थी

 ने कहा कि कोरोना की चेन को तोड़ना बहुत जरूरी है। एक साथ जब अधिक से अधिक लोगों की टेस्ट होगी तो संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से पता चल पाएगी। इससे दूसरे लोग संक्रमित होने से बच सकेंगे। ऐसे में कोरोना की चेन तोड़ने में भी मदद मिलेगी।

 

बड़े पैमाने पर की जा रही जांच की व्यवस्था: बाहर से आने वालों के अलावा यहां रहने वालों का भी समूह में सैंपल जांच के लिए भेजा जाएगा। बड़े पैमाने पर जांच की व्यवस्था की जा रही है। जहां पर व्यक्ति झुंड में देखे जाते हैं, वहां पर संदिग्ध लोगों की पूल टेस्टिंग होगी। जैसे कि सब्जी मंडी, मॉल या अन्य कोई भीड़भाड़ वाले क्षेत्र। रेड जोन से आने वालों को 14 दिन क्वारंटाइन सेंटर और सात दिन होम क्वारंटाइन रखा जा रहा है। होम क्वारंटाइन भेजने के दौरान संबंधित व्यक्तियों की सूची स्थानीय स्थास्थ्य विभाग और पंचायत को भेजी जाएगी, ताकि 14 दिनों तक संबंधित व्यक्ति की निगरानी की जा सके। इस दौरान अगर कोई संदिग्ध पाया गया तो उसका सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। 

 

क्या है पूल टेस्टिंग: पुल टेस्टिंग के तहत पांच लोगों का सैंपल एक में लेकर जांच के लिए भेजा जाएगा। जांच में रिपोर्ट निगेटिव आ गई तो ठीक है। पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर सभी का फिर से अलग-अलग सैंपल जांच के लिए भेजा जाएगा। उसमें से कोरोना पॉजिटिव मरीज का इलाज कराया जाएगा। पुल टेस्टिंग के माध्यम से अधिक लोगों की जांच करायी जा सकती है। 

 

कोरोना से बचाव के लिए बरतें ये सावधानी

​1. बार-बार हाथ धोइए, इसी से होगा बचाव

2. ​आंख, नाक और मुंह में हाथ लगाने से बचें

3. ​लिफ्ट का बटन और दरवाजों का हैंडल नहीं पकड़ें

​4. यात्रा करते वक्त बरतें विशेष तरह की सावधानी

5. ​दूसरों से हाथ मिलाने से बचें

​6. भीड़भाड़ वाली जगह जैसे- मॉल या सिनेमा नहीं जाएं

7. ​सामाजिक दूरी का ख्याल रखें और शादी-पार्टी में जाने से बचें

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

बालों का झड़ना और डैंड्रफ के घरेलु उपाय


बालों का झड़ना और डैंड्रफ के घरेलु उपाय

दोस्तों आज जो नुस्खा मैं आपके लिए लेकर आया हूँ वो है बालों का झड़ना, बालों में डैंड्रफ, रूखापन और असमय सफ़ेद होने जैसे समस्या के उपाय के सम्बन्ध में।

सबसे पहले हमें चाहिए : 

  • 2 चम्मच दही
  • 1 चम्मच निम्बू का रस
  • 1 मुठ्ठी करी पत्ता
  • 1 मुठ्ठी भृंगराज के पत्ते

अब क्या करें की करी पत्ता और भृंग राज के पत्ते को कूट पिस कर बारीक़ पाउडर बना लें फिर इसमें दही और निम्बू का रस मिलाकर पेस्ट बना लें।

अब आप इसे अपने बालों में अच्छे तरह से लगा कर 25 – 30 मिनट छोड़ दें।

 

 

फिर सैम्पू से बाल धो कर नाहा लें। इस विधि को वीक में एक बार लगातार करने से आपके बालों की सभी समस्याएँ जैसे बालों में रुसी, डैंड्रफ, बालों का रूखापन, बाल झाड़ना, असमय सफ़ेद होना आदि ख़त्म हो जाते हैं।

 

दोस्तों ये घरेलु उपाय है जिसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है इसलिए आप इसे बिना किसी संकोच के इस्तेमाल कर सकते हैं। क्योंकि पुराने ज़माने के लोग इन्हीं विधियों का यूज करते थे और उनका बाल 50 साल तक सफ़ेद नहीं होता था। दोस्तों उपरोक्त औषधियों में पाए जाने वाले तत्व से हमारे बाल न केवल मजबूत होते हैं बल्कि बालों में चमक सायनिंग भी आता है।

 

तो दोस्तों ये था हमारा आज का बालों से सम्बंधित स्पेशल रेमेडी और ये उपाय आपको कैसा लगा आप हमें कमेन्ट करके जरुर बताएं और अगर अच्छा लगा हो तो ज्यादा से ज्यादा लाइक करें शेयर करें और हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर लें व घंटी को दबा कर आल पर क्लिक कर दें।

 

दोस्तों मैं हमेशा के तरह यही चाहता हूँ की आप सभी स्वस्थ्य रहें सुखी रहें और आपको डॉक्टर के पास न जाना परे इसी शुभकामनाओं के साथ नमस्कार धन्यवाद।

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

जाने खड़े होकर खाना खाने के नुकसान | Healthy Life Tips


जाने खड़े होकर खाना खाने के नुकसान | Healthy Life Tips

घरेलु नुस्खा चैनल में आप सभी का एकबार फिर से स्वागत है. दोस्तों आज जिस टॉपिक पर मैं बात करने वाला हूँ वो है खड़े हो कर खाना खाने के नुक्सान। जी हाँ दोस्तों आज कल ये चलन हो गया है. वेस्टर्न लिफ़ स्टाइल के कारन लोग पार्टी में खड़े होकर खाना खाना स्टैण्डर्ड समझते हैं. और नीचे ज़मीं पर बैठ कर खाना खाने वालों को लोग गवार समझते हैं.

 

लेकिन अब ये एक रिसर्च में ये साफ़ हो गया है और वैज्ञानिकों ने भी ये मान लिया है के खड़े होकर खाना खाने से बहुत सारे नुक्सान होते हैं. खड़े होकर खाने से आपका पाचन तंत्र ख़राब होने लगता है और इतना ही नहीं, आपको खाने में स्वाद भी नहीं मिलता है. और जब आपको खाने में स्वाद नहीं लगेगा तो आपका खाने से भी मन उठता चला जायेगा.

 

जिससे आपके लिवर पर भी असर हो सकता है और आपका हॉर्मोन सिस्टम भी कमजोर हो सकता है, साथ ही आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो सकता है. जी हाँ दोस्तों, जैसे हमारे पूर्वज पालथी मार कर खाना खाया करते थे, अगर आप भी वही तरीका अपनाएं तो न केवल आपके शरीर में खाना लगता है बल्कि आपको भोजन करने में भी रूचि बनी रहती है. रुखा सूखा खाना भीं आपको स्वादिष्ट लगने लगता है.

 

पूरी रिसर्च पढ़ें: जाने खड़े होकर खाना खाने के नुकसान

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×