पूर्व वित मंत्री अरुण जेटली का निधन, 12:07 पर ली आखिरी सांस


पूर्व वित मंत्री अरुण जेटली का निधन, 12:07 पर ली आखिरी सांस

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का आज दिल्ली के एम्स में 66 वर्ष की अवस्था में निधन हो गया है वह लंबे समय से कैंसर की बीमारी से जूझ रहे थे. 28 दिसंबर को 1952 को जन्मे जेटली भाजपा के वरिष्ठ नेता होने के साथ साथ एक सफल वकील और वक्ता थे.

 

वह 2014 में मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान देश के वित्त मंत्री रहे थे. जेटली के वित्त मंत्री रहने के दौरान ही देश में ऐतिहासिक नोटबंदी और जीएसटी को देश में लागू किया गया था. इसके अलावा गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर के वापस गोवा जाने के बाद जेटली ने वित्त के साथ रक्षा मंत्रालय का भी अतिरिक्त प्रभार भी संभाला था.

 

इसे भी पढ़ें: पाबंदी के बाद भी राहुल गांधी समेत 11 नेता श्रीनगर हुऐ रवाना

 

 

आपको बता दें कि जेटली मोदी सरकार के लिए संकटमोचक की भूमिका में रहे हैं. हालांकि अपने खराब स्वास्थ्य के कारण उन्होंने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था. पिछले साल 14 मई को एम्स में उनके गुर्दे का प्रत्यारोपण हुआ था. लंबे समय तक मधुमेह रहने से वजन बढ़ने के कारण सितंबर 2014 में उन्होंने बैरिएट्रिक सर्जरी भी कराई थी.  

 

जेटली 1991 से भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य रहे हैं इसके बाद वह 1999 के आम चुनाव से पहले की अवधि के दौरान भाजपा के प्रवक्ता बन गए. 1999 में, भाजपा की वाजपेयी सरकार के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के सत्ता में आने के बाद, उन्हें 13 अक्टूबर 1999 को सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नियुक्त किया गया. उन्हें विनिवेश राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भी नियुक्त किया गया था.

 

इतना ही नहीं उन्होंने 23 जुलाई 2000 को कानून, न्याय और कंपनी मामलों के केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में राम जेठमलानी के इस्तीफे के बाद कानून, न्याय और कंपनी मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार संभाला था.

 

इसे भी पढ़ें: दूध के साथ कभी नमक या बैंगन तो नहीं खाया

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

-
-

रेसिपी

वायरल न्यूज़

×