“सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा” से जूझ रहे थे जेटली


“सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा” से जूझ रहे थे जेटली

भाजपा के कद्दवार नेता और देश के पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का दिल्ली के एम्स में आज दोपहर 12.07 बजे निधन हो गया है. वह 66 वर्ष के थे. जेटली 9 अगस्त से ही एम्स में भर्ती थे. उन्हें सांस लेने में समस्या होने के चलते एम्स में भर्ती किया गया था.

 

जेटली सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा कैंसर से ग्रस्त थे. साफ्ट टिश्यू सरकोमा एख रेयर कैंसर है जोकि शरीर के चारों ओर मौजूद टिश्यू को अपना शिकार बनाता है. यह शरीर के किसी भी भाग में हो सकता है. इस बीमारी को साइलेंट किलर के नाम से भी जाना जाता है.

 

इसे भी पढ़ें: पूर्व वित मंत्री अरुण जेटली का निधन,12:07 पर ली आखिरी सांस

 

 

दुनियाभर में सॉफ्ट टिश्यू सरकोमा के 50 से अधिक उप प्रकार मौजूद हैं. उसके कुछ प्रकार बच्चों को भी हो जाते है. खास बात यह है इस बीमारी की चपेट में सबसे ज्यादा युवा आ रहे है. सबसे महत्वपूर्ण यह है कि इस बीमारी को डायग्नोस कर पाना बेहद मुश्किल है क्योंकि यह कई तरह से फैलता है. यह बीमारी शरीर के किसी भी भाग में हो सकती है, लेकिन सबसे ज्यादा असर आर्म्स और पैरों पर होता है.

 

हालांकि सर्जरी के द्वारा इस बीमारी से आसानी से निजात पाई जा सकती है बर्शते इसकी प्रारंभिक स्टेज पर ही इसका पता चल सके. इसके अलावा जेटली के फेफड़े में बार-बार पानी आ जा रहा था जिसके कारण उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. इसी के चलते उन्हें वेंटिलेटर पर भी रखा गया था.

 

इसे भी पढ़ें: यह बीज सोने से भी कीमती है न फेकें

और पढ़ें »

खास आपके लिए

-
-

रेसिपी

वायरल न्यूज़

×