आमिर खान ने बदला अपना फैसला, सुभाष कपूर के साथ 'मोगुल' में करेंगे काम


आमिर खान ने बदला अपना फैसला, सुभाष कपूर के साथ 'मोगुल' में करेंगे काम

सुभाष कपूर द्वारा निर्देशित गुलशन कुमार की बायोपिक में आमिर खान मुख्य भूमिका निभाएंगे।

 

आज एक प्रमुख विकास में, आमिर खान ने गुलशन कुमार की बायोपिक से अलग हटने के अपने फैसले को बदल दिया है। इस बारे में हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए, आमिर ने निश्चित रूप से निर्देशक के साथ काम करके एक नई मिसाल कायम की है और शेयर किया है कि उनका निडर कदम इस तथ्य से है कि एक व्यक्ति दोषी साबित होने तक निर्दोष है और अदालत न्याय का साथ देगी। पिछले साल अक्टूबर में, आमिर खान ने ट्वीट किया था कि वह 'मोगुल' का हिस्सा नहीं होंगे, लेकिन अब उन्होंने अपना फैसला बदल दिया है।

 

’मोगुल’ में वापसी पर लिए गए इस अचानक बदलाव पर हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए आमिर खान ने शेयर किया, “खैर, किरण और मैं मोगुल का निर्माण कर रहे थे और मैं इसमें अभिनय कर रहा था। जब हम फिल्म कर रहे थे तो हमें नहीं पता था कि माननीय सुभाष कपूर के खिलाफ एक मामला चल रहा है। मेरा मानना है कि यह पांच या छह साल पुराना मामला है।  हम मीडिया स्पेस में बहुत ज्यादा नहीं हैं, इसलिए मुझे लगता है कि इस पर हमारा ध्यान नहीं गया। पिछले साल, मी-टू मूवमेंट के दौरान, यह मामला सामने आया था और जब हमें इसके बारे में पता चला, हम बेहद परेशान हो गए थे। किरण और मैंने इसके बारे में विस्तार से बात की थी। हम एक सप्ताह से अधिक समय से बड़ी दुविधा में थे।” 

 

सुभाष कपूर के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में बात करते हुए अभिनेता ने कहा, "यह वास्तव में हमें परेशान कर रहा था क्योंकि हमें लगा कि हमारी कार्रवाई ने अनजाने में एक व्यक्ति को परेशानी में डाल दिया जो इस मामले में अपनी आजीविका खोने की कगार पर है, और कब तक? क्या यह एक वर्ष के लिए है? या दस साल? हम नहीं जानते। अगर वह निर्दोष हुए तो क्या होगा? हम बहुत परेशान थे। कानून किसी व्यक्ति को तब तक निर्दोष मानता हैं जब तक कि वह दोषी साबित न हो जाए। लेकिन जब तक अदालत किसी नतीजे पर नहीं पहुँचतीं, तब तक क्या उन्हें काम करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए?  क्या उन्हें सिर्फ घर पर बैठना चाहिए ? क्या वे खुद के लिए आमदनी नहीं कमा सकते?”

 

यह भी पढ़ें: 15 दिन बाद आज देश भर में बढे पेट्रोल और डीजल के दाम, जानिए नई कीमत

 

“और इसलिए, हम कई महीनों तक इस परेशान स्थिति में थे। मैं रात को सो नहीं पाया क्योंकि मैं लगातार महसूस करता था कि मेरे कार्य ने अनजाने में एक व्यक्ति को नुकसान पहुंचाया है, जिसके अपराध के बारे में मुझे आईडिया नहीं है, जो काम करने और अपनी आजीविका कमाने का अधिकार खो देगा," आमिर ने व्यक्त किया कि बिना किसी फैसले के किसी को काम न देना कितना अनुचित है क्योंकि अभी तक अदालत ने अपना फैसला नहीं सुनाया है।

 

हिंदुस्तान टाइम्स के साथ बातचीत में, आमिर ने आगे कहा कि कैसे उन्होंने यह साहसिक कदम उठाया, "इस साल मई के महीने में, लगभग चार महीने पहले, मुझे IFTDA से एक पत्र मिला। IFTDA एक निर्देशक संघ है। मुझे लगता है कि काम पाने के अपने प्रयासों में मिस्टर कपूर ने अपने इंस्टिट्यूशन IFTDA को लिखा था। इसलिए, उन्होंने मुझे एक पत्र भेजा, जिसमें लिखा गया था कि उनका मामला पक्षपातपूर्ण है, और मुझे उनके मामले पर फैसला करने के लिए अदालत का इंतजार करना चाहिए और ऐसे समय तक उन्हें अपनी कमाई का अधिकार नहीं खोना चाहिए।"

 

"सभी निष्पक्षता में, वे दोषी साबित नहीं हुए है। इसलिए, कृपया ऐसा कुछ न करें जो उनके लिए नुकसानदेह है। वह हमारे एसोसिएशन के सदस्य है। आप हमारी एसोसिएशन के सदस्य हैं। और यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि उसे काम नहीं मिल रहा है। ऐसे में वो क्या करेंगे? उन्होंने मुझसे अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील की। जब मैंने वह पत्र पढ़ा तो मुझे और भी अधिक कसूरवार महसूस होने लगा। शायद, हम गलत काम कर रहे हैं।"

 

“और फिर, हमने अपनी असुविधा को दूर करने के लिए एक और काम करने का फैसला किया। हमने बहुत सी महिलाओं से मिलने का फैसला किया, जिन्होंने मिस्टर कपूर के साथ काम किया था। इससे हम यह पता लगाना चाहते थे, कि क्या अन्य महिलाएं भी उनके साथ असहज हैं? क्या किसी अन्य महिला का भी ऐसा कोई अनुभव था जहाँ वह असहज महसूस कर रहीं थी। यदि ऐसा है, तो यह हमें निश्चित कर देगा कि हम उनके साथ आगे नहीं जाना चाहते हैं। इसलिए हमने वह अभ्यास शुरू किया। हम लगभग 10-12 महिलाओं से मिले या उनके साथ बात की जिन्होंने उनके साथ काम किया था, हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट, असिस्टेंट डायरेक्टर्स, कॉस्ट्यूम अस्सिस्टेंट, इत्यादि," अभिनेता ने साझा किया।

 

यह भी पढ़ें: जानिए मात्र 4 घंटे में कोलेस्ट्रॉल कम कैसे करें

 

मामले में और गहराई से जाने और फिर निर्णय पर आने के लिए सही आह्वान के साथ, आमिर ने यह भी साझा किया कि निष्कर्ष कैसे थे, “हमने जो पाया, बिना किसी संदेह के, सभी मिस्टर कपूर के पक्ष में नज़र आये। न केवल उन्होंने उनके साथ कोई असुविधा महसूस की, बल्कि वे उनकी प्रशंसा करते नज़र आये। उन्होंने कहा कि वह अपने सेट पर सभी का बहुत ध्यान रखते थे। देखभाल करने वाले, संवेदनशील और सहायक, ये वे शब्द थे जो उनके वर्णन के लिए इस्तेमाल किये गए थे।" 

 

"लेकिन आपको बता दें कि किरण और मैं दोनों पूरी तरह से जानते हैं कि भले ही इन महिलाओं को मिस्टर कपूर के साथ काम करने का बहुत अच्छा अनुभव रहा होगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वह किसी अन्य महिला के साथ दुर्व्यवहार नहीं कर सकते थे। हालाँकि, मैं इस बात से इनकार नहीं कर सकता कि जिन महिलाओं ने उनके साथ काम किया था, उनके साथ इस बातचीत से हमें सुकून मिला था। और इसलिए, सब कुछ ध्यान में रखते हुए, मैंने IFTDA को यह कहते हुए वापस एक पत्र लिखा कि मैंने अपने निर्णय पर पुनर्विचार किया है, और मैं फिल्म पर वापसी करूंगा।”

 

अपने इस निर्णय पर पुर्नविचार करने के फैसले पर हिंदुस्तान टाइम्स के साथ बात करते हुए, आमिर खान ने एक साहसी निर्णय लिया है। इसके साथ, आमिर अब गुलशन कुमार की बायोपिक "मोगुल" में मुख्य भूमिका निभाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं, जिसे सुभाष कपूर द्वारा निर्देशित किया जाएगा।

 

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

आख़िर क्यों आ रहे हैं जबरिया जोड़ी के निर्देशक को धमकी भरे कॉल


आख़िर क्यों आ रहे हैं जबरिया जोड़ी के निर्देशक को धमकी भरे कॉल

सिद्धार्थ मल्होत्रा और परिणीति चोपड़ा इन दिनों फ़िल्म के प्रचार में व्यस्त हैं और हाल ही में अपनी आगामी फिल्म जबरिया जोड़ी के प्रचार के लिए दोनों दिल्ली पहुंचे थे। फिल्म अब अपनी रिलीज से महज चंद दिनों की दूरी पर है लेकिन फ़िल्म के रीयलिस्टिक विषय के कारण, निर्देशक प्रशांत सिंह को देश के असली बाहुबलियों से धमकी भरे कॉल मिल रहे हैं!

प्रशांत सिंह उसी क्षेत्र से तालुख रखते हैं, इसलिए वे उन शक्तिशाली लोगों के बारे में बहुत कुछ जानते हैं जो दूल्हे का अपहरण करने के व्यवसाय में हैं। प्रशांत ने फ़िल्म के लिए स्वयं सिद्धार्थ मल्होत्रा के स्टाइल को डिज़ाइन किया है, उनकी ड्रेसिंग स्टाइल से ले कर बोली तक हर चीज़ पर खुद प्रशांत ने बारीकी से काम किया है। फिल्म के अधिकांश दृश्य असली बाहुबलियों से प्रेरित हैं। लेकिन, धमकियों के बावजूद, निर्माता इसे बाहुबलियों के क्षेत्र में रिलीज़ करने के लिए निर्धारित हैं। jabariya jodi promotion director

सिद्धार्थ मल्होत्रा-परिणीति चोपड़ा अभिनीत आगामी फिल्म “जबरिया जोड़ी” अपनी रिलीज से पहले काफी सुर्खियां बटोर रही है। यह फ़िल्म ‘पकड़वा विवाह’ के विषय पर आधारित है।

“जबरिया जोड़ी” बिहार और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों से वास्तविक जीवन के दंपतियों और असल जिंदगी में दूल्हे के अपहरणकर्ताओं पर आधारित है। विषय को सबसे संवेदनशील और मजेदार तरीके से फ़िल्म में पिरोया गया है, लेकिन यह क्षेत्रों के बाहुबलियों को रास नहीं आ रही है। इन बाहुबलियों ने प्रशांत सिंह को फोन कर के फिल्म का प्रचार न करने की सलाह दी है और साथ ही इसकी रिलीज़ पर आपत्ति जताई है। jabariya jodi promotion director

ट्रेलर लॉन्च के तुरंत बाद से, प्रशांत को यह धमकी भरा कॉल आ रहे है। अनजान लोग लगातार उन्हें फोन कर रहे हैं, उन्हें फिल्म का प्रचार न करने और इसे रिलीज न करने के लिए भी कह रहे हैं। ये सभी बाहुबली फ़िल्म से असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और दुनियां के सामने एक्सपोज़ होने से डर रहे हैं।

शोभा कपूर, एकता कपूर और शैलेश आर सिंह द्वारा निर्मित, जबरिया जोड़ी बालाजी टेलीफिल्म्स तथा कर्मा मीडिया एंड एंटरटेनमेंट प्रोडक्शन के तहत बनाई गई है जो 2 अगस्त 2019 में रिलीज होने के लिए तैयार है। ja

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

रानी की “हिचकी” ने जीता अवार्ड


रानी की “हिचकी” ने जीता अवार्ड

फिल्म अभिनेत्री रानी मुखर्जी की फिल्म ‘हिचकी’ वर्ष 2018 की शुरुआत में ही रिलीज हुई थी. इस फिल्म में रानी मुखर्जी की एक्टिंग और फिल्म की कहानी ने बॉक्स ऑफिस पर देश की जनता का दिल जीत लिया था. अब इसी फिल्म के नाम एक और उपलब्द्धि लगी है. दरअसल, इटली के गिफोनी फिल्म फेस्टिवल के 49वें संस्करण में ‘हिचकी’ को सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए ग्रिफॉन पुरस्कार से नवाजा गया.

इस पर फिल्म के निर्माता मनीष शर्मा ने कहा कि ‘हिचकी’ वास्तव में एक यूनिवर्सल फिल्म है जिसे विश्व भर के लोगों ने समझा है. बच्चों ने ‘हिचकी’ को महोत्सव के सर्वश्रेष्ठ फिल्म के रूप में वोट दिया, यह इस तथ्य को दर्शाता है कि फिल्म की कहानी बाधाओं को पार करने की है.

गौरतलब है कि, फिल्म फेस्टिवल में एलीमेंट्स प्लस 10 के नाम से एक खास सेगमेंट है जिसमें ज्यूरी के सदस्यों की आयु 10-12 के बीच में है. एलीमेंट्स प्लस 10 की श्रेणी में 1,500 से अधिक बच्चों ने चीन, जर्मनी, स्वीडेन, ऑस्ट्रेलिया और नीदरलैंड्स के सात फीचर फिल्मों के लिए मतदान किया और इसमें ‘हिचकी’ को जीत हासिल हुई. यश राज फिल्म के इस प्रोजेक्ट ने अभी तक दुनियाभर में 250 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है .

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×