दिल्ली में 62 फीसदी प्रिंसिपल एडहोक पर हैं वहां की शिक्षा स्तर को जान सकते हैं- मीनाक्षी लेखी, सांसद


दिल्ली में 62 फीसदी प्रिंसिपल एडहोक पर हैं वहां की शिक्षा स्तर को जान सकते हैं- मीनाक्षी लेखी, सांसद

सांसद मीनाक्षी लेखी ने कहा है कि जहां दिल्ली में 62 फीसदी प्रिंसिपल एडहोक पर हैं और 48 फीसदी स्कूलों में टीचर नहीं है वैसे में क्या शिक्षा दी जाती होगी आप अनुमान लगा सकते हैं। इंटीग्रेटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के द्वारा आयोजित सेकेंड नेशनल एजुकेशन एक्सलैंट कॉन्क्लेव को संबोधित करते हुए मीनाक्षी लेखी ने कहा कि आज दिल्ली में शिक्षा के स्तर को पता लगाया जा सकता है जहां प्रीसिंपल और टीचर की कमी हो तो एजुकेशन कैसे पूरा किया जा सकता है।

 

केवल कमरे बना कर कुछ हासिल नहीं किया जा सकता है। यह भी तय है कि इंफ्रास्ट्रक्चर जरूरी है लेकिन शिक्षा के विकास के लिए प्रीसिंपल और टीचर अहमियत रखते हैं। मीनाक्षी लेखी ने कहा कि आज कहा जा रहा है कि कई इलाके पढ़ाई में पिछड़े हैं तो इसका यह मतलब भी है कि वह क्षेत्र आर्थिक रूप से भी पिछड़ा है। जिसे आगे लाने के लिए केंद्र सरकार प्राइमरी जरूरतों को पूरा कर रही है।

 

सरकार ने शिक्षा को तेजी से आगे बढाने के लिए कई तरह के बदलाव किए हैं। इस मौके पर मीनाक्षी लेखी ने कहा आज भी देशी शिक्षा को बढ़ावा देने की जरूरत है जिससे हमारा आधार मजबूत हो। मीनाक्षी लेखी ने सीईजीआर के द्वारा आयोजित इंडियन एजुकेशन फेस्टिवल के मैगजीन का लोकार्पण भी किया। इंटीग्रेटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के द्वारा आयोजित इस खास कांक्लेव को संबोधित करते हुए नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रीडेशन के चेयरमैन प्रो के के अग्रवाल ने कहा कि आज शिक्षा में गुणवत्ता लाने की जरूरत है जिसकी आज आवश्यकता है।

 

चाहें वह प्राइवेट या सरकारी क्षेत्र की हो। पुराने जमाने में कोई रेगुलेटर एथोरिटी नहीं होती थी लेकिन शिक्षा का स्तर काफी ऊंचा होता था। शोभित यूनिवर्सिटी के चांसलर कुंवर विजेंद्र शेखर ने कहा कि आज रूलर एरिया में शिक्षा के विस्तार की जरूरत है जिसके लिए यूनिवर्सिटी को नहीं सरकार को भी इस ओर ध्यान देने की जरूरत है। इसका समर्थन करते हुए आईआईएचएमआर के वाइस चांसलर प्रो, पंकज गुप्ता ने कहा कि आज इसकी जरूरत है जिसपर हमसब को मिलकर कार्य करना होगा।

 

इस मौके पर एआईसीटीई के एडवाइजर प्रो. आर हरिहरन ने कहा कि एआईसीटीई ने कई कदम उठाए हैं जिसका आज प्रतिफर देखने को मिल रहा है। अब जब नई शिक्षा नीति आ रही है ऐसे में कई बदलाव भी आपको दिखेगे। इस मौके पर सीबीसीई के डायरेक्टर विश्वजीत साहा एएएफटी यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ संदीप मारवाह आईईसी यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो. अभय कुमार, हिमालयन ग्रेवाल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर एनके सिन्हा कैपिटल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रो एमके वाजपेयी, प्रेसटिज ग्रुप ऑफ इंड्रस्ट्रीज डॉ डैविस जैन, सूर्यदत्ता ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के चेयरमैन डॉ संजय बी चौरडिया, एएसएम ग्रुप ऑफ इंस्ट्रीट्यूट के चेयरमैन डॉ संदीप पंचपांडे, स्प्रींगर नेचर के एमडी संजीव गोस्वामी, जीएलबजाज के डायरेक्टर प्रो. अजय कुमार ने कांक्लेव को संबोधित किया। इस मौके पर देश भर के विद्वजन ने अपने विचार रखे और मुख्य अतिथि से कौतूहल भर प्रश्नों का जवाब भी जाना।  

62 percent of principals in Delhi are on the adhoc, know the education level there- Meenakshi Lekhi, MP, pm modi, minakshi lekh

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

शेयर बाजार में भारी गिरावट से कारोबारी मायूस


शेयर बाजार में भारी गिरावट से कारोबारी मायूस

शेयर बाजार में भारी गिरावट से मायूस हुए देश भर में छोटे, मझले और बड़े कारोबारी. आज भारतीय शेयर बाजार में काफी कमजोरी देखी गई. शुरुआती कारोबार के दौरान सेंसेक्स 90 अंक से टूटा और निफ्टी भी सपाट खुलने के बाद फिसल गया. 

 

\"\"

आज सुबह 9.39 बजे सेंसेक्स पिछले सत्र से 68.36 अंकों यानी 0.18 फीसदी की कमजोरी के साथ 37,259.65 पर कारोबार कर रहा जबकि निफ्टी 34.20 अंक यानी 0.31 फीसदी फिसलकर 10,982.80 पर कारोबार कर रहा था. 

 

इसके साथ BSE के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र के मुकाबले मामूली कमजोरी के साथ 37,298.73 पर खुला और 37,346.05 तक उछला. मगर, सुस्त कारोबारी रुझान के कारण सेंसेक्स करीब 90 अंक पिसलकर 37,237.47 पर आ गया.

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

देश भर में 1 वर्ष में बंद किए गए 5500 ATM और 600 ब्रांच : RBI


देश भर में 1 वर्ष में बंद किए गए 5500 ATM और 600 ब्रांच : RBI

देश में मौजूद सरकारी बैंक बड़े-बड़े शहरों में अपने ATM और ब्रांच को बंद कर रहें हैं. इसकी वजह यह बताई जा रही है कि शहर में रहने वाले लोग इंटरनेट बैंकिंग पर बहुत ज्यादा जोर दे रहें शिफ्ट हो गए हैं, जिसकी वजह से सरकारी बैंकों का ऐसा मानना है कि ब्रांच और ATM जैसे फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर को कम किया जा सकता है. बता दें कि, पिछले 1 वर्ष में देश के 10 सरकारी बैंक ने कुल मिलाकर 5,500 ATM और 600 ब्रांच बंद किए हैं.

 

P चिदंबरम CBI की हिरासत में, जानिए आज क्या होगी चिदंबरम से पूछ ताछ

 

बताया जा रहा है कि, देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने जून 2018 से 2019 के बीच 420 ब्रांच और 768 ATM बंद किए हैं. वहीं विजया और देना बैंक को मिलाने के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा ने कुल40 ब्रांच और 274 ATM पर इस बीच शटर गिराया है. इस लिस्ट में पंजाब नैशनल बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया,  केनरा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक और इलाहाबाद बैंक भी शामिल हैं.

 

गौरतलब है कि, जहां एक तरफ सरकारी बैंक खर्च घटाने के लिए नेटवर्क में कटौती कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ प्राइवेट सेक्टर के एक्सिस बैंक, HDFC बैंक और ICICI बैंक ने अपने बैंकिंग नेटवर्क का विस्तार किया है. RBI के आंकड़ों से पता चलता है कि इन बैंकों ने खासतौर पर शहरी क्षेत्रों में अपने ATM लगाए हैं.

 

मंद बुद्धि बच्चों का मेमोरी पॉवर बढ़ने एवं बैक पैन, जॉइंट पैन, के चमत्कारी उपाय।

 

और पढ़ें »

खास आपके लिए

Senior Citizen Tiffin Seva

Viral अड्डा

  • news
  • news
  • news
  • news
-

वायरल न्यूज़

×